Sunday, 22 January 2012

क्या यही गणतंत्र है

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाओँ के साथ-
-----------------------------------------------------
क्या यही गणतंत्र है, यह किस तरह गणतंत्र है।
कैसे कहूँ गणतंत्र है, यह तो नहीं  गणतंत्र  है।।
जीतते  नेता  यहाँ  पर, जाति  के  आधार  पर,
जीतकर  सेवा  करेंगे , कर   रहे  व्यापार  पर,
मेरे समझ आती  नहीं  है यह व्यवस्था देश की,
वोट  बहुमत  में  न पाया, बन गई सरकार पर।
नापसंदी  का  हमें,  अधिकार  क्योंकि  है  नहीं,
यह समस्या तो जटिल है,  चिंतनिय  अत्यंत है।
क्या यही गणतंत्र है, यह किस  तरह गणतंत्र है।।
जिसका बड़ा अपराध है उसको बड़ा मिलता है पद,
अफसोस कि यह बात है, अपराधि  आधे  सांसद,
अपराध पहले कीजिये, फिर  राजनीति  में  घुसो,
अब राजनीति बन गई, अपराधियों का तो कवच।
कल तलक कैदी बने  थे, सांसद  हैं  आज  वो,
केश  उनपर  सैकड़ों  हैं, जेल  में  जो बंद है।
क्या यही गणतंत्र है, यह किस तरह गणतंत्र है।।
चल रहे अब भी  यहाँ,  अंग्रजों  के  कानून हैं,
सरकार में बैठा है वो, जिसने किया था खून है,
कल तलक गुण्डा था अपने, क्षेत्र का माना हुआ,
लग रहा संसद  में  जाके, वह बड़ा मासूम है।
होगी न  इसको  सजा, हत्याओं के अपराध से,
कानून  मंत्री  बनने  का, उसने रचा षडयंत्र है।
क्या यही गणतंत्र है,यह किस तरह गणतंत्र है।।
अधिकांश वह मंत्री बने, कोई न  कोई  दाग है,
जुर्म की दुनियाँ मे उनकी, ये अभी भी धाक है।
जानते हैं  सब  उसे,  चारा  घुटाला  था  किया,
बन गया है वह भी मंत्री, पशुधन का ये विभाग है।।
अगले चुनावों के  लिये, पैसा  तो  उसको चाहिये,
जानता  है  लूटने  का,  वह   पुराना   मंत्र  है।
क्या यही गणतंत्र है, यह किस तरह गणतंत्र  है।।
इक तरफ  तो  बोलते  है,  नारियाँ  पुजतीं  यहाँ,
मुझको तो हर घर में पीड़ित, नारियाँ दिखती यहाँ।
हर  रूप  ये  नारियों  का, हो  रहा  शोषण बहुत,
सिर्फ धन  के ही लिये क्यों, नारियाँ जलती यहाँ।।
हर धर्म में  हर  जाति  में, दहेज प्रचलन है बहुत,
वैसे तो ये कानून में, इस  पर  कड़े  प्रतिबंध  है।
क्या यही गणतंत्र है, यह  किस  तरह  गणतंत्र है।।
हमसे  आगे  देश  क्यों, आजाद  हमसे  बाद  हैं,
वोट  देते  ही  समय, लगता  कि हम आजाद हैं।
जनवरी छब्बीस को या, जो कि है पन्द्रह अगस्त,
हम  हुये  आजाद  थे, करते  ये केवल याद हैं।।
आजाद भारत है हुआ, जनता मगर  परतंत्र  है।
क्या यही गणतंत्र है, यह किस तरह गणतंत्र  है।।
राजनीति चल रही, अब  भी  यहाँ  परिवार  की,
हैसियत कुछ भी नहीं,  उसके  लिये  सरकार की।
जब टिकट बँटने को आये, नाम तो  कई ने दिये,
निकली  है  नेताओं  के, लिस्ट  रिश्तेदार  की।।
वोट  देने  की  हि  केवल,  लोकशाही  है  मिली,
पाँच सालों के लिये फिर, राजा  का  ही  तंत्र  है।
क्या यही गणतंत्र है, यह  नाम  का  गणतंत्र  है।।
बेटा-बेटी में अभी भी, इतना  क्यों  अंतर  अधिक,
क्यों नहीं अब तक  हुई  स पर पहल कोई सार्थक।
सिर्फ हम बातें ही  करते, पर  अमल  करते  नहीं,
कानून में अधिकार सब, परिवार में मिलते न हक।।
एक बेटी  की  नहीं, पीड़ा  है  यह  हर  एक  की,
इस  समस्या  का  मुझे, आये  नजर  न अंत है।
क्या यही गणतंत्र है, यह किस तरह  गणतंत्र  है।।

84 comments:

  1. आपने तो मेरे मन की कह दी,....दिनेस जी बहुत खूब ...
    बहुत सार्थक सटीक अभिव्यक्ति सुंदर रचना,बेहतरीन पोस्ट....
    new post...वाह रे मंहगाई...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धीरेन्द्र जी आपका हृदय से आभार.....

      Delete
  2. समर्थक बन गया हूँ आप भी बने तो मुझे खुशी होगी,....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी खुशी में मैं भी शामिल।

      Delete
  3. Replies
    1. इमरान जी सराहनीय प्रतिक्रिया करने के लिये दिल से शुक्रिया.....

      Delete
  4. Replies
    1. रश्मि जी आपका हृदय से आभार.....

      Delete
  5. वोट देने की हि केवल, लोकशाही है मिली,
    पाँच सालों के लिये फिर, राजा का ही तंत्र है।
    क्या यही गणतंत्र है, यह नाम का गणतंत्र है।।

    Agrwal ji ....saprem abhivadan ...apne to gantantr ka poora kala chittha hi khol kr rakh diya ...sahi mayne me to hm aj bhi gulam hi hain ....sirf gantatr diwas ka dhong racha jata hai....filhal behad prabhavshali raachana ke liye hardik badhai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. नवीन जी आपकी प्रतिक्रिया निःसंदेह ही मेरी नई रचनाओं को ऊर्जा प्रदान करेगी। अधिकाधिक आभार...

      Delete
  6. kaahe ka gantantr hai ye ... jahaan aam aadmi ki bhaagedaari nahi ...
    Jo neta chaahte ahin vahi desh mein hota hai .. swaarth ke taraajoo pe har cheez bikti hai ...

    saarthak chintan hai aapka ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिगम्बर जी उत्साह वर्धक प्रतिक्रिया के लिये हृदय से आभार......

      Delete
  7. वोट देने की हि केवल, लोकशाही है मिली,
    पाँच सालों के लिये फिर, राजा का ही तंत्र है।
    हाँ यही गणतंत्र है ,जिसमे न गन न तंत्र है ,लोक ,तंत्र स्वतंत्र है ,हां यही गन तंत्र है ,तंत्र ही बस तंत्र है .

    ReplyDelete
    Replies
    1. वीरू भाई प्रतिक्रिया देने के लिये आभार...

      Delete
  8. हमारे लोकतन्त्र की यह तस्वीर आपने बहुत सच्चाई से पेश की है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. गिरिजी जी प्रतिक्रया देने के लिये आभार...

      Delete
  9. हमारे लोकतन्त्र की यह तस्वीर आपने बहुत सच्चाई से पेश की है ।

    ReplyDelete
  10. पाँच सालों के लिये फिर, राजा का ही तंत्र है। हमारे लोकतन्त्र की यह तस्वीर आपने बहुत सच्चाई से पेश की है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. संगीता जी प्रोत्साहित करने वाली प्रतिक्रिया के लिये आभार...

      Delete
  11. इस समस्या का मुझे, आये नजर न अंत है।
    क्या यही गणतंत्र है, यह किस तरह गणतंत्र है।।

    ji haan...
    yahan yahi gun tantra hai....

    ReplyDelete
    Replies
    1. पूनम जी प्रतिक्रिया देने के लिये आपका बहुत बहुत आभार.....

      Delete
  12. इस समस्या का मुझे, आये नजर न अंत है।
    क्या यही गणतंत्र है, यह किस तरह गणतंत्र है।
    अच्छी रचना
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें
    vikram7: कैसा,यह गणतंत्र हमारा.........

    ReplyDelete
    Replies
    1. गणतंत्र दिवस की हृार्दिक शुभकामनाओं के साथ साथ
      प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.....

      Delete
  13. सार्थक , अर्थपूर्ण पंक्तियाँ लिखी हैं...... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  14. मोनिका जी प्रतिक्रिया देने के लिये हृदय से आभार.....

    ReplyDelete
  15. सिसकते हुए लोकतंत्र को जन जाग्रति ही त्राण दिलाएगी!
    लिखते रहें!
    शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनुपमा जी यही विचार मेरे हैं। देखते हैं सुबह कब होती है।
      प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.......

      Delete
  16. when I had already written the previous comment, I realised that your blog is also named jan jagriti!
    what a beautiful coincidence!!!

    ReplyDelete
  17. बहुत खूब ...

    गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें..

    ReplyDelete
    Replies
    1. अंजू जी गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें एवं प्रतिक्रिया देने के लिये आभार....

      Delete
  18. ज्वलंत समाजिक और राजनीतिक समस्याओं का बखुबी विस्तृत वर्णन किया है आपने । बहुत सुन्दर रचना है । आपका ब्लॉग फोलो कर लिया है । मेरा भी करें ।
    मेरी कविता

    ReplyDelete
    Replies
    1. साहनी जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.....

      Delete
  19. आपने सार्थक प्रश्न उठाये हैं...आज की यही पीड़ा है जिसका हल जनता को ही निकलना है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनीता जी सच कहा आपने जनता ही अपनी पीड़ा का हल स्वयं निकालेगी।
      समय का इंतजार है।
      प्रतिक्रिया देने के लिये आभार....

      Delete
  20. हम हुये आजाद थे, करते ये केवल याद हैं।।
    आजाद भारत है हुआ, जनता मगर परतंत्र है।
    क्या यही गणतंत्र है, यह किस तरह गणतंत्र है।।
    २६ जनवरी १९५० , इस दिन संविधान बना , और हमारे अधिकार - कर्तव्य तैय हुआ ,
    तब से लेकर आज तक , आम जनता अपनी उलझने , सुलझाने में फसीं हुई है..................... उसके अधिकार क्या और कर्तव्य क्या है..................... ??????????????

    ReplyDelete
    Replies
    1. विभा जी मेरी कविता को गम्भीरता से लेने एवं उत्साह वर्धक
      प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.......

      Delete
  21. vakai sochane ka vakt aa gaya hai..kya yahi gantantra hai???

    ReplyDelete
    Replies
    1. कविता जी कविता के भावों पर विचार करने के लिये आभार....

      Delete
  22. हमसे आगे देश क्यों, आजाद हमसे बाद हैं,
    वोट देते ही समय, लगता कि हम आजाद हैं।
    जनवरी छब्बीस को या, जो कि है पन्द्रह अगस्त,
    हम हुये आजाद थे, करते ये केवल याद हैं।।
    आजाद भारत है हुआ, जनता मगर परतंत्र है।
    क्या यही गणतंत्र है, यह किस तरह गणतंत्र है।

    क्या बात है !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस्मत जी गणतंत्र दिवस की शुभकामनाओं के साथ ही
      प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.....

      Delete
  23. गणतंत्र दिवस हम सभी भारतवासियों को मुबारक हो.

    इलाही वो भी दिन होगा जब अपना राज देखेंगे
    जब अपनी ही जमीं होगी और अपना आसमां होगा.

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह अलका जी क्या बात कही, दिल और दिमाग में उतर गई.....
      प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत बहुत आभार......

      Delete
  24. गणतंत्र दिवस के मौके पर बिलकुल सत्य लिखा है आपने दिनेश सर शानदार रचना है।

    गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं....!

    ReplyDelete
    Replies
    1. संजय जी मेरी बात का समर्थन करते हुये प्रतिक्रिया देने के लिेये आभार....

      Delete
  25. सार्थक लेखन है आपका.

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुंवर जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.....

      Delete
  26. उचित प्रशन और सार्थक अभिवयक्ति........

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुषमा जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.....

      Delete
  27. बहुत सुंदर प्रस्तुति,

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए...
    एक ब्लॉग सबका

    ReplyDelete
    Replies
    1. Sawai जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार......

      Delete
  28. देश के वर्तमान राजनैतिक व्यापार का अच्छा चित्रण किया है आपने।
    एक-एक पंक्ति सही है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. महेन्द्र जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.......

      Delete
  29. pahli baar aapke blog per aana hua...accha lagla..shandaar prastuti ke liye hardik badhayee...aapka blog join kar raha hoon ..yadi aap bhee mere blog se judenge to mujhe hardik prasannata hogi...sadar badhayee ke sath

    ReplyDelete
    Replies
    1. saarthak post aaj kii rajniiti ka yathart yahi hai ....bahut badiya

      Delete
    2. ममता जी, मेरा समर्थन करने एवं प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.......

      Delete
    3. डॉ. साहब आपका मेरे ब्लॉग पर प्रथम आगमन पर हृार्दिक स्वागत है,
      एवं प्रतिक्रिया देने के लिये आभार........
      आपके आदेशानुशार आपके ब्लॉग से जुड़ चुका हूँ।

      Delete
  30. दिनेश जी आपका कहना सही है। बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति के लिए आपका आभार।
    आपको भी गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. विरेन्द्र जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार....

      Delete
  31. दिनेश जी आपका कहना सही है। बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति के लिए आपका आभार।
    आपको भी गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. विपिन जी मेरा समर्थन करने एवं प्रतिक्रिया देने के लिये
      हृदय से आभार..........
      गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें......

      Delete
  32. विरेन्द्र जी गणतंत्र दिवस की शुभकामनाओं के साथ प्रतिक्रिया देने के लिये आपका आभार....

    ReplyDelete
  33. बहूत हि सटीक एवं सत्यता को उजागर करती पंक्तीया है ...
    सार्थक अभिव्यक्ती...

    ReplyDelete
  34. रीना जी प्रतिक्रिया देने के लिेये आभार......

    ReplyDelete
  35. desh ki kuvyvastha ka sahi chitran..

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  36. prritiy ji प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.......

    ReplyDelete
  37. इस समस्या का मुझे, आये नजर न अंत है।
    क्या यही गणतंत्र है, यह किस तरह गणतंत्र है।।

    yathaarth ko ujaagar karti aapki prastuti
    bahut saarthak aur sateek hai.

    aapke man ki peeda sabhi ko kisi n kisi prakar
    se anubhav ho rahi hai aur sabhi vyathit hain.

    mere blog par aapke aane ke liye bahut bahut aabhar.

    ReplyDelete
    Replies
    1. राकेश जी प्रतिक्रया देने के लिये आभार........

      Delete
  38. desh ke haalaat ka sateek chitran, bahut achchhi rachna.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शबनम जी प्रतिक्रिय् देने के लिये आभार......

      Delete
  39. अच्छा लेखन सार्थक सटीक बेहतरीन प्रस्तुति,

    welcome to new post --काव्यान्जलि--हमको भी तडपाओगे....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धीरेन्द्र जी रचना की सराहना के लिये आभार......

      Delete
  40. Replies
    1. सुधा जी रचना की सराहना के लिये आभार......

      Delete
  41. बहुत बढ़िया लगा ! शानदार एवं विचारणीय पोस्ट!

    ReplyDelete
    Replies
    1. उर्मी जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार....

      Delete
  42. सुंदर कविता, विचारणीय पोस्ट!
    गणतन्त्र दिवस की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. अमरेन्द्र जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार....

      Delete
  43. जब टिकट बँटने को आये, नाम तो कई ने दिये,
    निकली है नेताओं के, लिस्ट रिश्तेदार की।।
    वोट देने की हि केवल, लोकशाही है मिली,
    पाँच सालों के लिये फिर, राजा का ही तंत्र है।
    क्या यही गणतंत्र है, यह नाम का गणतंत्र है।।..
    प्रिय दिनेश जी बहुत सुन्दर कविता ..सारे मुद्दे उठाये आप ने ...सच में क्या यही गणतंत्र है ? अच्छा प्रश्न ..क्या उन नेताओं की आँखों ये दिखाई देता है ?
    भ्रमर का दर्द और दर्पण में आने के लिए आभार अपना स्नेह बनाये रखें और समर्थन भी हो सके तो दें /
    भ्रमर ५
    क्यों नहीं अब तक हुई इस पर पहल कोई सार्थक।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुरेन्दर जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार....

      Delete
    2. सार्थक और सामयिक प्रस्तुति , आभार.

      Delete
    3. शुक्ला जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार.......

      Delete
  44. अत्यंत सुन्दर ..

    ReplyDelete
  45. अमृता जी प्रतिक्रिया देने के लिये आभार..........

    ReplyDelete